Shahdol hospital took dead body hostage after the death of patient Anuppur mpap | इंसानियत फिर शर्मसार: बिल नहीं चुका पाया परिवार, अस्पताल ने शव को बनाया बंधक!


शहडोलः मध्य प्रदेश के शहडोल जिले से इंसानियत को शर्मसार करने वाला एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसे सुनकर हर कोई हैरान हो जाता है. जहां डॉक्टरों ने एक शव को केवल इसलिए बंधक बना लिया क्योंकि मृतक के मरीज के परिजन के पास बॉडी को लेने के लिए पैसे नहीं थे. 

डॉक्टरों ने शव को बनाया बंधक 
शहडोल के एक निजी अस्पताल में इलाज के दौरान एक मरीज की मौत हो गई. जहां पैसा देने में देरी करने पर अस्पताल संचालक ने मृत शव को बंधक बना लिया, जिससे मजबूर किसान ने अपनी खड़ी फसल बेचकर शव को अस्पताल से मुक्त कराया. हालांकि बाद में मरीज के परिजनों ने मामले की शिकायत पुलिस में कर दी. जिसके बाद पुलिस ने 2 डाक्टरों के खिलाफ 420 समेत अन्य धाराओं के तहत मामला कायम कर लिया है. 

यह है पूरा मामला 
दरअसल, अनुपपूर जिले के जैतहरी में रहने वाले किसान संतोष कुमार राठौर की पत्नी पुष्पा राठौर ने 9 सितंबर को जहरीला पदार्थ खा लिया था. जिसके बाद से उसकी हालत बिगड़ने लगी. हालत ज्यादा बिगड़ने पर परिजनों ने उसे अनुपपूर जिला अस्पताल में भर्ती कराया. लेकिन यहां से डॉक्टरों ने मरीज को 13 सितंबर को शहडोल जिले के देवंता हॉस्पिटल में रेफर कर दिया. जहां उसे उपचार के लिये भर्ती कराया गया.  

अस्पताल ने नहीं दिया शव 
उपचार के दौरान लागातार अस्पताल प्रबंधक द्वारा पैसों की मांग की जाती रही, पैसा देने के दौरान इलाज चलता रहा. लेकिन 22 सितम्बर को हालात ज्यादा बिगड़ने पर डॉक्टर द्वारा 64 हजार रुपए की मांग की गई. वहीं इस दौरान संतोष के पत्नी की मौत ही गई, पैसों की व्यवस्था नहीं होने पर पत्नी का शव देने से देवंता हॉस्पिटल द्वारा मना कर दिया गया. जिससे मजबूर होकर खड़ी फसल बेचकर पत्नी का शव मुक्त कराया. जब इस बात की चर्चा हुई तो कुछ लोगों ने मरीज के परिजनों के साथ पहुंचकर मामले की शिकायत पुलिस में की. जिसके बाद पुलिस ने अस्पताल पहुंचकर मृतक के परिजनों की शिकायत के आधार पर देवंता हॉस्पिटल के डॉक्टर वीके त्रिपाठी व डॉ ब्रजेश पांडे के खिलाफ मामला दायर किया है.  

वहीं इस मामले की चर्चा पूरे जिले में हो रही है. आखिरकार अस्पताल के डॉक्टरों ने शव को बंधक कैसे बना लिया. फिलहाल पुलिस ने कहा कि इस घटना की जांच की जा रही है. जांच के बाद ही मामले में आगे की कार्रवाई की जाएगी. 

ये भी पढ़ेंः आस्था से खिलवाड़’ का खामियाजा! हटाए गए रायपुर नगर निगम के जोन कमिश्नर

WATCH LIVE TV





Source link

Leave a Comment