पहाड़ी आलू के गुटके या गुटुक बनाने की विधि क्या है / Pahadi aalu ke gutke

Pahadi aalu ke gutke – “आलू के गुटके” उत्तराखंड का एक प्रसिद्ध व प्रचलित व्यंजन है | इसे वहां नाश्ते, शाम के स्नेक्स, सफर में पूरियों के साथ या भोजन में भी खाया जाता है |

इसके तड़के में उत्तराखंड का एक मसाला (बीज) “जखिया” डाला जाता है, जो वहीं मिलता है | जिसका वहां लगभग हर तड़के में इस्तेमाल होता है | उसकी अनुपस्थिति में हम जीरा डालते हैं |जखिया ऑनलाइन भी (बहुत महंगा) मिल जाता है | जब कि उसके पौधे वहां यहां-वहां ढेर सारे उगे रहते हैं, उसकी खेती नहीं होती |

इसे बनाना बहुत ही आसान है, आइये बनाते हैं “आलू के गुटके”

आवश्यक सामग्री :- Pahadi aalu ke gutke

उबले आलू – 4 बड़े (लगभग 400 ग्राम)

सरसों का तेल – 2 -3 बड़ा चम्मच

ज़खिया – 1 चम्मच (ऐच्छिक)

जीरा – 1 चम्मच

राई – 1 चम्मच

हींग – 1-2 चुटकी

धनिया पाउडर – 2 चम्मच

लाल मिर्च पाउडर – 1 चम्मच ( स्वादानुसार )

हल्दी पाउडर – 1/2 चम्मच

नमक – 1/2 चम्मच ( स्वादानुसार )

बारीक कटा हरा धनिया – 1 बड़ा चम्मच

विधी :-

उबले आलू को छील कर डेढ़ इंच के चोकौर टुकड़ो मे काट लें ।

एक बर्तन में हल्दी, लाल मिर्च पाउडर, धनिया पाउडर, नमक और 2-3 बड़े चम्मच पानी डालकर पेस्ट बना लें

एक कढा़ही मे तेल गरम करें, उस में ज़खिया, जीरा, राई औऱ हींग डालें ।

जब जीरा और राई तड़कने लगे तो मसालों का पेस्ट डाल कर भूनें ।

जब मसाले का पेस्ट अच्छे से भुन जाए तो उसमें आलू डाले, अच्छे से मिलाएं ।

5 मिनट ढककर धीमी आंच पर पकाएं ।

फिर हरा धनिया डालकर मिला लें ।

गरमा – गर्म आलू के गुटके हरे धनिये की चटनी के साथ परोसें ।

Pahadi aalu ke gutke

यह प्रतीकात्मक चित्र – गूगल से साभार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *