Jharkhand Judge Uttam Anand Case CBI interrogation of 2 accused | Dhanbad Judge Death Case: उत्तम आनंद की मौत के मामले में CBI सख्त, 2 आरोपियों से की पूछताछ


Dhanbad: धनबाद में अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश (एडीजे) उत्तम आनंद (Uttam Anand) की मौत की जांच अपने हाथ में लेने के तीन दिन बाद केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) मामले के संबंध में दो आरोपियों से पूछताछ कर रही है, जिन्हें 5 दिन की एजेंसी की हिरासत भेजा गया था.

बता दें कि धनबाद की एक अदालत ने शुक्रवार को लखन वर्मा और राहुल वर्मा को पांच दिन की सीबीआई हिरासत में भेज दिया था. जांच से जुड़े सीबीआई के एक सूत्र ने कहा, हम झारखंड के गिरिडीह से गिरफ्तार किए गए दो आरोपियों से पूछताछ कर रहे हैं. एजेंसी को झारखंड पुलिस की एसआईटी से मामले की फाइलें, उनके मोबाइल कॉल रिकॉर्ड और उनके मोबाइल की लोकेशन हिस्ट्री मिली है, जो पहले मामले की जांच कर रही थी.

वहीं, सूत्र ने कहा कि एजेंसी उत्तम आनंद की मृत्यु के समय की लोकेशन हिस्ट्री और उनके कॉल रिकॉर्ड के विवरण की जांच कर रही है. एजेंसी दोनों आरोपियों के कॉल रिकॉर्ड का भी विश्लेषण कर रही है, ताकि यह पता लगाया जा सके कि वे किसके संपर्क में थे.

वहीं, सीबीआई ने झारखंड सरकार की सिफारिश और केंद्र सरकार से आगे की अधिसूचना पर 4 अगस्त को जांच अपने हाथ में ली थी. मामले की जांच के लिए 20 सदस्यीय एसआईटी टीम झारखंड भेजी गई है.

ये भी पढ़ें- Dhanbad Judge Death Case: हरकत में आई सीबीआई की एसआईटी टीम, जल्द करेगी ADJ की पत्नी से मुलाकात

अतिरिक्त जिला और सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद की 28 जुलाई को सुबह की सैर के दौरान एक ऑटो-रिक्शा की चपेट में आने से मौत हो गई थी और पुलिस ने उनकी पत्नी की शिकायत पर एक अज्ञात ऑटो चालक के खिलाफ मामला दर्ज किया था. सीसीटीवी फुटेज सामने आने के बाद झारखंड सरकार ने मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया था, लेकिन बाद में उसने सिफारिश की कि सीबीआई ही मौत की जांच करे. सूत्र ने कहा कि एजेंसी के अधिकारियों ने उस ऑटो-रिक्शा का भी सत्यापन किया है जो सुबह की सैर के दौरान एडीजे से टकराया था.

झारखंड उच्च न्यायालय ने मंगलवार को सीबीआई को न्यायाधीश की मौत की जांच जल्द से जल्द शुरू करने का निर्देश दिया था, ताकि कोई सबूत नष्ट न हो और राज्य सरकार को सभी रसद सहायता और दस्तावेज उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया था.

इसके साथ ही अदालत ने झारखंड के डीजीपी को राज्य में न्यायिक अधिकारियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का भी निर्देश दिया है. इसने यह भी जानना चाहा कि घटना सुबह 5.08 बजे हुई तो दोपहर 12.45 बजे प्राथमिकी क्यों दर्ज कराई गई.

सूत्र ने कहा कि एजेंसी के अधिकारी उत्तम आनंद की मौत के सिलसिले में उनकी पत्नी का बयान दर्ज करने की योजना बना रहे हैं.

नई दिल्ली में स्पेशल यूनिट (विशेष इकाई) से सीबीआई के पुलिस अधीक्षक जगरूप एस. गुसिन्हा भी मामले की जांच के लिए झारखंड में डेरा डाले हुए हैं.

(इनपुट- आईएएनएस)





Source link

Leave a Comment