Jasprit Bumrah opens up on his Fight With James Anderson in IND vs ENG, Lords Test, said in front of Dinesh Karthik Chat | James Anderson पर क्यों आगबूला हुए Jasprit Bumrah? Dinesh Karthik के सामने किया बड़ा खुलासा


नई दिल्ली: भारत और इंग्लैंड के बीच मौजूदा टेस्ट सीरीज (India vs England Test Series) के दौरान जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) और जेम्स एंडरसन (James Anderson) के बीच जुबानी जंग देखने को मिली. अब बुमराह ने इस मसले पर खुलकर बात की है.

लॉर्ड्स टेस्ट में हुई थी बहस

लॉर्ड्स टेस्ट (Lord’s Test) के तीसरे दिन जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) और जेम्स एंडरसन (James Anderson) एक दूसरे से उलझ गए थे. बुमराह के मुताबिक एंडरसन की बात ने उन्हें पूरे स्तर तक परेशान किया और उनका मन कर गया है कि वो इसका जवाब दें.

यह भी पढ़ें- रोहित शर्मा ने शतक लगाकर तोड़ा गौतम गंभीर का रिकॉर्ड, लेकिन सचिन से अब भी पीछे

बुमराह ने किया खुलासा

जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) ने स्काई स्पोर्ट्स पर दिनेश कार्तिक को दिए गए इंटरव्यू में कहा, ‘मैं डिटेल में नहीं जाना चाहता, लेकिन जब हम गेम खेलते हैं, तो हमारी मंशा किसी बल्लेबाज को चोट पहुंचाने की नहीं होती है. ये हमारा तरीका था जिससे लोअर ऑर्डर के बल्लेबाजों को आउट किया जा सके, क्यंकि जब हम ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका जाते हैं, तो ऐसा होता है.’

बुमराह को आया गुस्सा

बुमराह ने कहा, ‘जैसे ही दिन खत्म हुआ, कुछ बहसबाजी हुए जो अच्छी नहीं थी, इसलिए हमलोग इसको लेकर खुश नहीं थे. मैंने उस वक्त बात नहीं सुनी क्योंकि मैं बिलकुल थक गया था, लेकिन मेरे टीम के साथियों ने सुन लिया, और मैं ऐसा इंसान नहीं हूं जो लड़ाई में शामिल होता है. लेकिन जब मुझे पता चला कि उसने क्या कहा तो मैं वास्तव में उत्तेजित हो गया.’

‘गुस्से का सही इस्तेमाल किया’

बुमराह ने आगे कहा, ‘तब मैंने सोचा कि अगर कोई सामने ऐसे आता है तो मैं बिलकुल अपने कदम पीछे नहीं खींचूंगा और इसका 10 गुणा जवाब दूंगा. हर कोई चार्ज-अप हो गया और सख्ती से लड़ाई करने को तैयार हो गया, लेकिन फिर हमने सोचा कि अपना संयम न खोया जाए, क्योंकि हम एक खास काम के लिए लिए यहां, हम चुप रहें और इसका कोई असर न होने हैं. हम इसको अपने फायदे के लिए इस्तेमाल करना चाहते थे, जो आखिर में हुआ.’

‘फास्ट बॉलिंग से बच नहीं सकते बल्लेबाज’

‘फास्ट बॉलिंग के बारे में बुमराह ने कहा, ये हमारे लिए पूरे साल का काम है, ये ऐसा नहीं है कि आपने सोचा और शुरू हो गए, ये इतना आसान नहीं होता. बल्लेबाज की चीजों से बच नहीं सकते, उनको कंधे का दर्द और घुटने का दर्द हो सकता है. मैं एक बॉलर हूं और तेज गेंदबाजी का शौकीन भी, इसलिए मैं हमेशा गेंदबाजों को चुनता हूं और उन पर तवज्जो देता हूं.’





Source link

Leave a Comment