Hardik Pandya said MS Dhoni is not a great cricketer, he admire him like a brother |रोहित-विराट नहीं, इस दिग्गज को मानते हैं Hardik Pandya अपना भाई, मुश्किल समय में दिया साथ


नई दिल्ली: टीम इंडिया टी20 वर्ल्ड कप में उतरने के लिए एकदम तैयार है. विराट कोहली की इस 15 सदस्यी टीम में सभी खिलाड़ी एक बड़े चैंपियन हैं. इसी टीम में हार्दिक पांड्या जैसा एक चैंपियन ऑलराउंडर भी, जिससे इस वर्ल्ड कप में पूरे देश को उम्मीदें हैं. टी20 वर्ल्ड कप के से ठीक पहले हार्दिक ने एक बड़ी बात कही है. 

इस दिग्गज को हार्दिक मानते हैं अपना भाई 

भारत के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या का मानना है कि टी20 वर्ल्ड कप उनके करियर की सबसे बड़ी जिम्मेदारी है क्योंकि अपने भाई महेंद्र सिंह धोनी की गैर मौजूदगी में एक ‘फिनिशर’ के तौर पर सारा भार उनके कंधों पर होगा. ‘ईएसपीएन क्रिकइन्फो की क्रिकेट मंथली’ को दिए गए इंटरव्यू में पांड्या ने अपने जीवन की कई चुनौतियों और धोनी के साथ असाधारण तालमेल पर बात की.

धोनी के साथ ऐसा है हार्दिक के रिश्ता

पिछले साल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने वाले धोनी के बिना भारत का यह पहला टी20 विश्व कप है. भारत को पहले मैच में 24 अक्टूबर को पाकिस्तान से खेलना है. धोनी को टूर्नामेंट के लिए टीम का मेंटर बनाया गया है. पांड्या ने कहा, ‘यह करियर की सबसे बड़ी चुनौती है क्योंकि इस बार महेंद्र सिंह धोनी नहीं है. सब कुछ मेरे कंधों पर है. मैं इसी तरह से सोचता हूं क्योंकि इससे मेरे लिए चुनौती बढ जाती है. यह रोमांचक टूर्नामेंट होगा.’

धोनी के बारे में उन्होंने कहा कि हालात अनुकूल नहीं होने पर , परेशानी में या खुद को समझने के लिए वह धोनी के पास जाते हैं. उन्होंने कहा, ‘एमएस मुझे शुरू ही से समझते आए हैं. मैं कैसे काम करता हूं या मैं कैसा इंसान हूं. मुझे क्या पसंद नहीं है, सब कुछ.’ पांड्या ने बताया कि एक टीवी शो पर विवादास्पद टिप्पणी के बाद निलंबन पूरा करके जब वह 2019 में न्यूजीलैंड दौरे पर वापसी कर रहे थे तो धोनी ने उनसे बात की.

धोनी ने हमेशा दिया साथ

पांड्या ने कहा, ‘शुरू में मेरे लिए कोई होटल रूम नहीं था. फिर मुझे फोन आया कि यहां आ जाओ. एमएस ने कहा कि वह बिस्तर पर नहीं सोते हैं. वह नीचे सोएंगे और मैं उनके बिस्तर पर. वह पहले व्यक्ति हैं जो हमेशा साथ थे. वह मुझे गहराई से जानते हैं. मैं उनके काफी करीब हूं. वही मुझे शांत रख सकते हैं.’ जब यह सब हुआ, उन्हें पता था कि मुझे सहयोग की जरूरत है. मुझे एक कंधा चाहिए था जो मेरे क्रिकेट करियर में उन्होंने मुझे कई बार दिया. मैने उन्हें एम एस धोनी, एक महान क्रिकेटर के रूप में कभी नहीं देखा. मेरे लिए वह मेरे भाई हैं.’

पांड्या ने कहा कि कई बार वह अपने ही ख्यालों में उलझ जाते थे और धोनी ऐसे में उनकी मदद करते थे. उन्होंने कहा, ‘मैं उन्हें फोन करके कहता था कि ये सोच रहा हूं, क्या चल रहा है बताओ. फिर वह बताते थे. मेरे लिए वह लाइफ कोच हैं. उनके साथ रहकर आप परिपक्व और विनम्र होना सीखते हैं.’





Source link

Leave a Comment