Former hockey player Gopal Bhengra passes away, Sunil Gavaskar used to send money every month to Bhengra | हर महीने Gopal Bhengra के घर पैसे भेजते थे Sunil Gavaskar, इसी से चलता था इनका घर


नई दिल्ली: भारत में क्रिकेट को एक धर्म की तरह माना जाता है. क्रिकेटर्स के पास दौलत-शौहरत के साथ साथ फेम भी होता है. रिटायरमेंट के बाद भी क्रिकेटर्स के पास खूब काम होता है, हालांकि हर खेल में ऐसा नहीं होता. चाहे खिलाड़ी कितना भी बड़ा क्यों ना हो एक वक्त के बाद उसे भुला दिया जाता है. 

नहीं रहे हॉकी के दिग्गज गोपाल भेंगरा

पूर्व अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी हॉकी गोपाल भेंगरा (Gopal Bhengra) का निधन हो गया है. वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे. उन्होंने 75 साल की उम्र में अंतिम सांस ली. इस खिलाड़ी का नाम भले ही किसी को याद ना हो लेकिन एक वक्त पर ये खिलाड़ी अपने शानदार खेल के लिए जाना जाता था. खूंटी जिले के तोरपा प्रखंड के उयुर गांव के रहने वाले भेंगरा जीवन के आखिरी समय में खेती करते थे. 

स्कूल में हॉकी के कोच रहे थे भेंगरा 

गोपाल भेंगरा (Gopal Bhengra) दो साल तक खूंटी के एसएस हाई स्कूल की हॉकी अकादमी के कोच रहे. तब उन्हें एक हजार रुपये का भत्ता मिलता था. भेंगरा कहते थे कि हॉकी का खेल छोड़ने के बाद आपको कोई पूछता, चाहे आप कितने बड़े खिलाड़ी ही क्यों न हो, जबकि दूसरे खेलों में ऐसी बात नहीं है.

सुनील गावस्कर ने की थी मदद

एक वक्त ऐसा भी था जब गोपाल भेंगरा (Gopal Bhengra) का परिवार बेहद मुश्किल वक्त से गुजर रहा था. अपने परिवर को चलाने के लिए इस दिग्गज को पत्थर तोड़ने का काम करना पड़ा. जब ये खबर एक अखबार में छपी, तो सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) को इसके बारे में पता चला. जिसके बाद क्रिकेट के इस दिग्गज ने भेंगरा की आर्थिक मदद करने का फैसला किया.

गावस्कर (Sunil Gavaskar) उन्हें आखिरी वक्त तक हर महीने 15 हजार रुपये भेजते रहे. गोपाल कहते थे कि हॉकी ने तो उन्हें पूरी तरह ठुकरा दिया, लेकिन महान क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने उन्हें अपना लिया.

 





Source link

Leave a Comment