Fans said Akshay Kumar should be signed for Neeraj Chopra’s biopic | अक्षय कुमार बनेंगे नीरज चोपड़ा की बायोपिक के हीरो? सोशल मीडिया पर फैंस ने लिए मजे


नई दिल्ली: भारतीय एथलीट नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) ने इतिहास रच दिया है. उन्होंने टोक्यो ओलंपिक के जैवलिन थ्रो इवेंट में गोल्ड मेडल हासिल किया. नीरज के भाले ने 87.58 की सर्वश्रेष्ठ दूरी तय करते हुए गोल्ड पर कब्जा किया. भारत को ओलंपिक में लंबे समय के बाद गोल्ड दिलाने वाले नीरज के ऊपर अब बायोपिक बनाने की चर्चा हो रही है. 

नीरज चोपड़ा पर बनेगी फिल्म? 

ओलंपिक में भारत के लिए 13 साल के बाद गोल्ड लाने वाले नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) के ऊपर अब लोग बायोपिक बनाने की तैयारी कर रहे हैं. सोशल मीडिया पर लोग इसकी मांग उठा रहे हैं. ट्विटर पर तो लोगों ने ऐलान भी कर दिया है कि बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार नीरज का रोल निभाते हुए नजर आएंगे. इसी बात को लेकर कई तरह के मीम्स और ट्वीट सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहे हैं.  

 

 

 

 

दरअसल अक्षय कुमार की किसी पुरानी फिल्म के सीन से उनकी फोटोज सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं. इन फोटोज की तुलना लोग नीरज चोपड़ा से कर रहे हैं. इसके अलावा लोगों ने जॉन अब्राहम की भी कुछ फोटोज शेयर की हैं. लोगों का यही कहना है कि ये दोनों हीरो नीरज चोपड़ा की बायोपिक में नजर आएंगे. 

ये है नीरज का जवाब

खुद के ऊपर बायोपिक बनाने की बात सुनकर नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) ने भी अब बयान दिया है. नीरज ने IANS से कहा, ‘मैं इसके बारे में ज्यादा नहीं सोचता. फिलहाल खेल पर ध्यान देना जरूरी है. जब मैं खेल छोड़ दूंगा, तब बायोपिक उपयुक्त होगी क्योंकि अभी प्रयास बेहतर परिणाम प्राप्त करने और देश के लिए अधिक पदक जीतने का है ताकि जीवन में नई कहानियां आ सकें. जब तक खेलों में मेरा करियर चल रहा है, मैं बायोपिक के बारे में नहीं सोच रहा हूं. मेरे रिटायर होने के बाद इसमें आने में कोई दिक्कत नहीं होगी.’

नीरज ने रचा इतिहास

टोक्यो ओलंपिक के जैवलिन थ्रो फाइनल में नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) शुरुआत से ही सबसे आगे रहे. उन्होंने अपनी पहली ही कोशिश में 87.03 मीटर की दूरी तय की है. वहीं दूसरी बार में उन्होंने 87.58 की दूरी तय करी. इसी के साथ उन्होंने अपने क्वालिफिकेशन रिकॉर्ड से भी ज्यादा दूर भाला फेंका है. जैवलिन थ्रो में ये भारत का अब तक का सबसे पहला मेडल है. इतना ही नहीं एथलेटिक्स में भी ये भारत का पहला ही मेडल है.  





Source link

Leave a Comment