सहवाग ने इस IPL टीम पर कसा तंज, कहा- बच्चों के डायपर से भी ज्यादा बदलते हैं Playing XI


दुबई: टीम इंडिया के पूर्व विस्फोटक ओपनर वीरेंद्र सहवाग (Virender) ने IPL टीम पंजाब किंग्स पर बड़ा तंज कसा है. वीरेंद्र सहवाग के मुताबिक बच्चों के डायपर भी इतनी जल्दी-जल्दी नहीं बदले जाते, जितनी बार पंजाब किंग्स की टीम अपनी प्लेइंग इलेवन में बदलाव करती है. सहवाग ने क्रिकबज के साथ बातचीत में कहा कि पंजाब किंग्स को अपनी बॉलिंग यूनिट को और मजबूत करना चाहिए. बता दें कि वीरेंद्र सहवाग अतीत में पंजाब की टीम के डायरेक्टर भी रह चुके हैं. 

सहवाग ने इस IPL टीम पर तंज कसा

पंजाब किंग्स को राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मंगलवार को खेले गए IPL मैच में 2 रन से करीबी हार का सामना करना पड़ा है. पंजाब किंग्स ने इस मैच में अपने एक गलत फैसले से खुद के पैरों पर कुल्हाड़ी मार ली. इस बड़ी गलती के कारण पंजाब किंग्स को मैच तक गंवाना पड़ गया. दरअसल, राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ इस मैच में पंजाब किंग्स की टीम ने क्रिस गेल जैसे टी20 के धाकड़ बल्लेबाज को मौका नहीं दिया. पंजाब किंग्स की टीम ने क्रिस गेल की जगह दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाज एडन मार्करम को प्लेइंग इलेवन में शामिल किया था, लेकिन एडन मार्करम ने 20 गेंदों पर 26 रनों की धीमी पारी खेली. एडन मार्करम क्रीज पर होते हुए भी पंजाब किंग्स को जीत नहीं दिला पाए. ऐसे में पंजाब किंग्स के टीम सेलेक्शन पर सवाल खड़े हो रहे हैं. 

प्लेइंग 11 की भविष्यवाणी करना आसान नहीं

सहवाग ने कहा, ‘पंजाब किंग्स की प्लेइंग इलेवन की भविष्यवाणी करना आसान नहीं है. पंजाब किंग्स ने अपने गेंदबाज IPL 2021 के पहले 7 मैचों में कई बार बदले हैं. पंजाब किंग्स की टीम किस प्लेइंग इलेवन के साथ मैदान पर उतरेगी, इस बात को जज करना बहुत मुश्किल है, लेकिन फिर भी मैं चाहूंगा कि वो अपनी मजबूत बॉलिंग लाइन अप के साथ मैदान पर उतरें.’ सहवाग ने कहा, ‘अगर उनकी बैटिंग चली, जिसमें गेल, राहुल, अग्रवाल, पूरन जैसे स्टार खिलाड़ी हैं, तो फिर उनका जीतना तय है. इसलिए बल्लेबाजी स्ट्रॉन्ग है, गेंदबाजी मजबूत रखनी होगी. अगर वो विदेशी तेज गेंदबाज के साथ जाना चाहते हैं, तो क्रिस जॉर्डन को लेकर सकते हैं, जो डेथ ओवर्स में रनों पर अंकुश लगा सकते हैं.’

बच्चों के डायपर से भी ज्यादा होते हैं बदलाव 

सहवाग ने कहा, ‘पंजाब किंग्स अपने प्लेइंग इलेवन को बहुत बदलती है, लेकिन राजस्थान के साथ ऐसा नहीं है. हालांकि, इस बार उनके कई सारे बड़े खिलाड़ी नहीं है, तो हो सकता है कि वो बदलाव करते दिखें. राजस्थान की टीम बदलने से पहले अपने खिलाड़ियों को साबित करने के लिए 2-3 मैच देती है, लेकिन पंजाब किंग्स उन्हें हर एक या दो मैच के बाद बदल देती है. इतनी तेजी से तो बेबी के डायपर नहीं बदलते, जितनी तेजी से पंजाब किंग्स अपने प्लेइंग इलेवन में फेरबदल करती है.’

स्पोर्ट्स की लेटेस्ट और इंटरेस्टिंग खबरों के लिए यहां क्लिक कर Zee News के Sports Facebook Page को लाइक करें





Source link

Leave a Comment