मुश्किल है ‘धोनी रिव्यू सिस्टम’ से बचना, माही के तेज दिमाग ने इस तरह बल्लेबाज को किया चित| Hindi News


दुबई: चेन्नई सुपर किंग्स ने मुंबई इंडियंस को रविवार को खेले गए IPL मैच में 20 रनों से मात दे दी. इस मैच में भले ही धोनी बल्ले से कोई खास कमाल नहीं कर पाए, लेकिन विकेट के पीछे उनके कमाल से बल्लेबाज भी चित हो गया. टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने एक बार फिर साबित कर दिया कि उन्हें डिसीजन रिव्यू सिस्टम (DRS) का ‘मास्टर’ क्यों कहा जाता है.

धोनी से जीत नहीं पाते अंपायर्स 

डीआरएस को धोनी रिव्यू सिस्टम के नाम से भी बुलाया जाता है. शायद ही कोई मौका आया हो जब रिव्यू के मामले में धोनी से गलती हुई हो. आमतौर पर जब भी धोनी रिव्यू लेते हैं तो अंपायर को अपना फैसला बदलना ही पड़ता है और मुंबई इंडियंस के खिलाफ रविवार को खेले गए IPL मैच में भी ऐसा ही देखने को मिला.  

DRS फिर साबित हुआ धोनी रिव्यू सिस्टम

दरअसल,  मुंबई इंडियंस की बल्लेबाजी के तीसरे ओवर की पहली ही गेंद पर दीपक चाहर की गेंद पर क्विंटन डि कॉक पूरी तरह से चकमा खा गए थे. गेंद सीधा उनके पैड पर लगी, लेकिन ऑनफील्ड अंपयार ने डि कॉक को नॉटआउट करार दिया. फिर फ्रेम में आते हैं धोनी और अपने हाथों को ऊपर करके रिव्यू ले लेते हैं. धोनी जैसे ही रिव्यू लेते हैं वैसे ही यह बात साफ हो जाती है कि अब क्विंटन डि कॉक को पवेलियन वापस लौटना पड़ेगा. थर्ड अंपायर क्विंटन डि कॉक को आउट करार देता है और एक बार फिर यह बात साबित हो जाती है कि DRS मतलब धोनी रिव्यू सिस्टम. वहीं, अगर मैच की बात करें तो सीएसके की टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया था.

ट्विटर पर धोनी ही धोनी

धोनी ने एक बार फिर साबित कर दिया कि डीआरएस लेने में उनका कोई सानी नहीं है. बता दें कि डीआरएस का नाम धोनी रिव्यू सिस्टम इसलिए पड़ा, क्योंकि डीआरएस लेने के मामले में धोनी के आस-पास कोई भी नहीं है. जब भी धोनी डीआरएस लेते हैं, तो वह 99% सही रहते हैं. इसके बाद एक बार फिर धोनी DRS को लेकर ट्विटर पर छा गए.

चेन्नई ने मुंबई को पीटा 

बता दें कि ऋतुराज गायकवाड़ (नाबाद 88) रन की अर्धशतकीय पारी के बाद गेंदबाजों के उम्दा प्रदर्शन के दम पर चेन्नई सुपर किंग्स ने यहां दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में खेले गए आईपीएल 2021 के मुकाबले में मुंबई इंडियंस को 20 रनों से हराया. चेन्नई सुपर किंग्स ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए गायकवाड़ के 58 गेंदों पर नौ चौकों और चार छक्कों की मदद से नाबाद 88 रनों की पारी के दम पर 20 ओवर में छह विकेट पर 156 रन बनाए. लक्ष्य का पीछा करने उतरी मुंबई की टीम सौरव तिवारी के 40 गेंदो पर पांच चौकों की मदद नाबाद 50 रन के बवजूद 20 ओवर में आठ विकेट पर 136 रन ही बना सकी. चेन्नई की ओर से ड्वेन ब्रावो ने तीन विकेट और दीपक चाहर ने दो विकेट लिए जबकि जोश हेजलवुड और शार्दूल ठाकुर ने एक-एक विकेट लिए.





Source link

Leave a Comment