…तो क्‍या Humans के साथ रिलेशन बनाने के कारण विलुप्‍त हुए निएंडरथल? Study में सामने आया चौंकाने वाला तथ्‍य | Study says due to Physical relations with humans decreased population of Neanderthal


नई दिल्‍ली: वैज्ञानिकों के निएंडरथल की आबादी (Neanderthal population) घटने का एक अहम कारण खोज लिया है. इनके मुताबिक मनुष्यों (Humans) और निएंडरथल के बीच बने शारीरिक संबंधों के कारण एक दुर्लभ किस्‍म के ब्‍लड डिस्‍ऑर्डर ने निएंडरथल (Neanderthal) की संतानों पर नकारात्‍मक असर डाला, जिससे उनकी आबादी घट गई.

पीएलओएस वन जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, निएंडरथल के ब्‍लड सैंपल्‍स से पता चलता है कि उनके खून में जेनेटिक वैरिएंट्स का एक खास सेट था, जो हेमोलिटिक डिसीज ऑफ द फेटस एंड न्‍यूबोर्न (एचडीएफएन) बीमारियों को लेकर अतिसंवेदनशील था. आशंका है कि यही उनमें एनीमिया का कारण बना. 

इस डिस्‍ऑर्डर ने कम की आबादी 

रिसर्चर्स का मानना ​​है कि ऐसी आशंका है कि HDFN के कारण ही निएंडरथल बच्चों की संख्या में कमी आई होगी. निएंडरथल मानव होमो सोपिएंस के एक ऐसे विलुप्त सदस्य हैं जो पश्चिम यूरोप, पश्चिम एशिया और अफ्रीका में लाखों साल पहले रहते थे. इनको मनुष्य की ही एक उपजाति माना जाता है. इनका कद करीब 4.5 से 5.5 फिट तक था. 2007 में किये गए अध्ययनों से यह पता चलता है कि इनके बालों का रंग लाल और स्किन पीली थी.

रिपोर्ट में कहा गया है, “निएंडरथल और डेनिसोवन्स के ब्‍लड ग्रुप सिस्‍टम के विश्लेषण से उनके मूल, विस्तार और होमो सेपियन्स के साथ रिलेशन बनाने के बारे में जानने में काफी मदद मिली है. मानव के पूर्वजों और निएंडरथल के बीच संबंध के मामलों में एचडीएफएन होने का जोखिम अधिक है. लिहाजा यह डिस्‍ऑर्डर उनमें एनीमिया का कारण बना और फिर निएंडरथल कमजोर होकर मर गए. 

VIDEO

यह भी पढ़ें: Mysterious Places: 20 साल से बंद था Farmhouse, अंदर जाने पर दिखा होश उड़ा देने वाला नजारा

इंसानों में विरले ही मिलता है यह डिस्‍ऑर्डर 

एसडीएफएन नाम का यह डिस्‍ऑर्डर जिसे निएंडरथल की आबादी कम करने के लिए जिम्‍मेदार माना जा रहा है, इसे इंसानों के मामले में अत्यंत दुर्लभ माना जाता है.  हालांकि इसे निएंडरथल के मामले में आम माना जाता है क्योंकि इस प्रजाति के लोगों का जीन पूल बहुत सीमित है.

डेली मेल ने इस रिसर्च के मुख्‍य लेखक स्‍टीफन माजिएरेस के हवाले से लिखा है, “4 हजार किमी और 50 हजार साल के अंतराल में बांटे गए लोगों में जीन के ये रूप मिले हैं. इससे यह साबित होता है कि यह अनुवांशिक विशिष्टता और एनीमिक भ्रूण का जोखिम निएंडरथल के बीच काफी आम रहा होगा. 





Source link

Leave a Comment