खुद से दिल्ली की कप्तानी छीने जाने पर श्रेयस अय्यर ने तोड़ी चुप्पी, ऋषभ पंत को लेकर किया ये कमेंट


नई दिल्ली: दिल्ली कैपिटल्स ने IPL 2021 सीजन में श्रेयस अय्यर की जगह ऋषभ पंत को कप्तान बना दिया. श्रेयस अय्यर की कप्तानी जाने की वजह बहुत दर्दनाक रही. अय्यर से उनके प्रदर्शन की वजह से नहीं, बल्कि चोटिल होने की वजह से कप्तानी छीन गई. दिल्ली कैपिटल्स IPL 2021 में 9 मैचों में 7 जीत के साथ प्वॉइंट टेबल में टॉप पर है. अब खुद श्रेयस अय्यर ने ऋषभ पंत को कप्तान बनाए जाने पर अपनी चुप्पी तोड़ी है. 

कप्तानी छीने जाने पर श्रेयस अय्यर ने तोड़ी चुप्पी

श्रेयस अय्यर ने कहा कि उन्हें दिल्ली कैपिटल्स की कप्तानी करना पसंद है, लेकिन वह ऋषभ पंत को 2021 सीजन के आखिर तक कप्तान बनाए रखने के टीम प्रबंधन के निर्णय का सम्मान करते हैं. अय्यर की अगुवाई में दिल्ली ने 2020 में फाइनल में जगह बनाई थी, लेकिन कंधे की चोट के कारण वह इस साल टूर्नामेंट के पहले चरण में नहीं खेल पाए थे, जिसके बाद टीम प्रबंधन ने पंत को कप्तान नियुक्त किया था.

दिल्ली ने पंत को ही कप्तान बनाए रखा

कोविड-19 के कारण मई में स्थगित कर दिए आईपीएल के फिर से बहाल होने पर 26 वर्षीय अय्यर ने वापसी की, लेकिन दिल्ली ने पंत को ही कप्तान बनाए रखा. सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ जीत में नाबाद 47 रन की आक्रामक पारी खेलने वाले अय्यर ने कहा कि वह टीम की नीति समझते हैं और उन्हें कोई शिकायत नहीं है. दिल्ली ने यह मैच आठ विकेट से जीता.

अय्यर ने ऋषभ पंत को लेकर किया ये कमेंट

अय्यर ने मैच के बाद कहा, ‘जब मुझे कप्तानी सौंपी गई थी, तो मैं मानसिक तौर पर अलग तरह की स्थिति में था तथा निर्णय लेने की मेरी क्षमता और सहनशीलता का स्तर बहुत अच्छा था और मुझे पिछले दो वर्षों में इसका लाभ मिला.’ अय्यर ने कहा, ‘यह फ्रेंचाइजी का निर्णय है और उन्होंने जो भी निर्णय लिया है मैं उसका सम्मान करता हूं. ऋषभ सत्र के शुरू से ही अच्छी तरह से टीम की अगुवाई कर रहा है और उन्हें लगा कि उसे सत्र के आखिर तक कप्तान बनाए रखना चाहिए और मैं इस फैसले का पूर्ण सम्मान करता हूं.’

बल्लेबाजी पर अधिक ध्यान दे रहे अय्यर 

अय्यर ने कहा कि उन्हें दबाव की परिस्थितियों में खेलने में आनंद आता है क्योंकि ऐसे में उनके खेल में निखार आता है. अय्यर ने कहा, ‘और कोई बड़ा बदलाव नहीं आया है. अब मैं बल्लेबाजी पर अधिक ध्यान दे रहा हूं. जब मैं कप्तान था तो मुझे दबाव में खेलना पसंद था. जब दबाव होता है तो आपके सामने अधिक चुनौतियां होती है और ऐसी परिस्थितियों में मैं अच्छा प्रदर्शन करता हूं.’ अय्यर ने कहा, ‘यहां तक कि आज (बुधवार) जब मैं क्रीज पर उतरा तो मैच जीतने का दबाव था. विकेट में असमान उछाल थी तो मेरी सोच वही थी कि आखिर तक टिके रहकर मैच जीतना है.’





Source link

Leave a Comment